अभी-अभी : धोनी ने कहा-अपने ग्लब्स से सेना के बलिदान बैज को नहीं हटाउंगा

New Delhi : अब धोनी के ग्लब्स का मामला सम्मान की बात होती जा रही है। धोनी ने सेना का बलिदान चिन्ह ग्लब्स पर क्या लगा लिया ICC बौखला उठी। वहीं TV चैनल AAJ TAK के अनुसार धोनी ने भी बैज हटाने से इनकार कर दिया है। धोनी ने कहा है कि वो सेना के बलिदान बैज को ग्लब्स से नहीं हटाएंगे। 

वहीं  ICC को शायद पता नहीं है कि भारत में क्रिकेट और देशभक्ति का क्या आलम है। यहां क्रिकेटर और सैनिक दोनों को भगवान की तरह पूजते हैं और महेंद्र सिंह दोनों तो दोनों हैं। सोशल मीडिया पर लोगों का कहना है कि जब मैच से पहले खिलाड़ी मैदान में नमाज़ पढ़ सकते हैं, तो फिर ग्लव्स में क्या ही गलत है। फैंस हैं कि मानने को तैयार नहीं हैं और इसे अब सेना के सम्मान से जोड़ दिया है। सोशल मीडिया पर कुछ लोग पाकिस्तानी टीम की तस्वीर साझा कर रहे हैं, जिसमें वह मैदान पर ही नमाज़ पढ़ रहे हैं।

ऐसे में लोग सवाल कर रहे हैं अगर कोई पूरी टीम मैदान पर अपने धार्मिक भावनाओं को प्रकट कर सकती है तो फिर सिर्फ ग्लव्स पर बैज लगाने से क्या दिक्कत है। जबकि धोनी खुद लेफ्टिनेंट कर्नल हैं।

नमाज वाली बात को न सिर्फ फैंस, बल्कि बड़ी हस्तियां भी उठा रही हैं, पाकिस्तान के ही तारिक फतेह ने भी इस पर आपत्ति दर्ज कराई है। वहीं भारतीय फुटबॉल टीम के पूर्व कप्तान बाइचुंग भूटिया का भी कहना है कि धोनी के इस तरह के बैज का इस्तेमाल करने में कोई गलती नहीं है, लेकिन अगर ICC के नियम हैं तो उसको भी देखना होगा।

क्या है बलिदान बैज?

पैराशूट रेजिमेंट के विशेष बलों के पास उनके अलग बैज होते हैं, जिन्हें ‘बलिदान’ के रूप में जाना जाता है। इस बैज में ‘बलिदान’ शब्द को देवनागरी लिपि में लिखा गया है। यह बैज चांदी की धातु से बना होता है, जिसमें ऊपर की तरफ लाल प्लास्टिक का आयत होता है। यह बैज केवल पैरा-कमांडो द्वारा पहना जाता है।

The post अभी-अभी : धोनी ने कहा-अपने ग्लब्स से सेना के बलिदान बैज को नहीं हटाउंगा appeared first on Live India.